बुधवार, 19 अगस्त 2009

नरेगा (NREGA) में फर्जी जाब कार्ड बनाकर कर रहे भ्रष्टाचार

नरेगा (NREGA) में फर्जी जाब कार्ड बनाकर कर रहे भ्रष्टाचार
सरकार और जनता के बीच की कड़ी जनप्रतिनिधि और प्रशासन, वर्षो से आम आदमी को मिलने वाली सरकारी सुविधाओं को हड़पते रहे है। वर्तमान समय में इनकी हड़पने की भूख निश्चित ही और तेज हो गई है, तभी इस देश की आम जनता को नरेगा के तहत मिलने वाली मेहनताने को भी फर्जी जाब कार्ड बनाकर लूटने की कवायद ग्राम प्रधान कर रहे है। कानपुर नगर में ककवन ब्लाक के इब्राहिमपुर रौस ग्राम पंचायत के करीब 50 ग्रामीणों ने कानपुर नगर के जिलाधिकारी को शपथ पत्र देकर अपने ग्राम पंचायत इब्राहिमपुर रौस के ग्राम प्रधान रमाकान्ती यादव के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है, कि ग्राम प्रधान रमाकान्ती ने करीब 100 जाब कार्ड फर्जी नामों पर बना कर रखे है, और उन पर कामों के दिन चढ़ा कर उसका भुगतान भी करा लिया है। इब्राहिमपुर रौस ग्राम पंचायत के करीब 42 ग्रामीणों को जो जाब कार्ड दिया गया उस पर जाब कार्ड संख्या भी दर्ज नहीं की गयी है। सन 2008 में इब्राहिमपुर रौस ग्राम पंचायत के करीब 45 मजदूरों ने नरेगा (NREGA) के तहत ग्राम इब्राहिमपुर रौस में हरीजन पुरवा से सुरसी मार्ग तक कच्ची सड़क पर मिट्टी डालने का कार्य कराया गया, जिसमें पानी निकासी के लिए नाली का काम करीब 7 दिनों तक चला, जिसके मजदूरी का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। इब्राहिमपुर रौस ग्राम पंचायत में ही नरेगा (NREGA) के तहत दिनांक 4/06/2009 से 15/06/2009 तक करीब 100 मजदूरों ने मानपुर से मेन रोड विजदन तक कच्ची सड़क का निर्माण कार्य किया जिसकी मजदूरी का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। इब्राहिमपुर रौस ग्राम पंचायत में नरेगा (NREGA) के तहत कराये जा रहे कामो में नरेगा (NREGA) कानून की जम कर धज्जिया उड़ाई जा रही है। मजदूरो द्वारा काम मांगे जाने पर ग्राम पंचायत सचिव गाली देकर भगा देता है और काम उन्ही को देता है, जो ग्राम प्रधान के खास या सर्मथक लोग है। नरेगा (NREGA) के तहत कराये जा रहे कार्यस्थल पर कोई मस्टर रोल नहीे रखा जाता है और न ही हस्ताक्षर कराये जाते है। अगर कभी कोई मजदूर इन बातों को लेकर शिकायत करने की कोशिश करता है, तो ग्राम प्रधान रमाकान्ती यादव उसकी पिटाई करा देता है। 62वीं तथाकथित आजादी दिवस मनाने के बावजूद आज भी इस देश की आम जनता कहीं भी आजाद नहीे दिखाई दे रही है । जिस देश में अपनी मेहनत की मजदूरी मांगने पर पिटाई होती हो हम कैसे कह सकते है कि सही अर्थो में हम आजाद है। ये आजादी झूठी है, सही अर्थो में हम तभी आजाद हो सकेंगे, जब इस देश का आम आदमी अपने को आजाद महसूस करेगा।

Report By, Mahesh & Sahankar Singh

“Asha Pariwar”, Kanpur

“Apna Ghar”
B-135/8, Pradhane Gate, Nankari ,IIT, Kanpur-16 India

Ph: +91-512-2770589,Cell No. +91-9838546900
http://balsajag.blogspot.com/,http://rtiup.blogspot.com,http://alivephoto.blogspot.com,www.ashaparivar.org

2 टिप्‍पणियां:

  1. Samaj ke Jarooratmandon kamjor varg ko kam mangne par peetai aur prabhavshali - bahubalion ke liye NAREGA Sogat laya hai. Jai ho.... Is post ko jara Rahul Bhaiya aur C.P. Joshi ko Bhej kar to dekhen.

    उत्तर देंहटाएं
  2. manrega ke tahat kaam magne par shayd kaam ko nmile jata hoga,lakin is yojna ka sara paisa to sarkari logo ki jeb me hi jata hai

    उत्तर देंहटाएं